छाती या स्तन कैंसर के शिकार पुरूष भी हो सकते हैं।

स्तन या छाती कैंसर के एक भयंकर बीमारी है सामान्य रूप से महिलाओं में यह सबसे अधिक देखने को मिलाता है, हर दस में से एक महिला इससे प्रभावित है। परंतु पुरूष संभवतः इस बात से अनभिज्ञ है कि यह बिमारी उनको भी हो सकती है। स्तन कैंसर तब होता है जब स्तन के ऊतकों में कुछ कोशिकाएं अनिंयंत्रित तरीके से फैल जाती है और कोशिकाओ की एक असामान्य गांठ बनती है। असाध्यता के कारण स्तन कैंसर महिलाओं में मृत्यु का दूसरा सबसे आम कारण है।

पुरुषों में स्तन कैंसर आम बीमारियों की तुलना में उससे अधिक है और यह महिलाओं की तुलना में पुरुषों के लिए ज्यादा खतरनाक है। पुरुषों को अपनी छाती पर एक छोटी सी गांठ दिखते ही तुरंत ही उसकी जांच की जानी चाहिए, कही यह कैंसर की गांठ तो नहीॽ हालांकि, उपचार पुरुषों और महिलाओ दोनो के लिए समान ही है।

स्तन कैंसर के कारण

डॉक्टरों का कहना है कि स्तन कैंसर के कारणो को पूरी तरह से समझ नहीं सकते है, लेकिन कुछ पुरुषों में इस रोग के विकसित होने का जोखिम औसत से अधिक प्रतीत होते है। महिलाओं में आनुवांशिक प्रवृति के कारण और पुरुषों में यह हार्मोन संबंधी निर्भरता के कारण हो उत्पन्न हो सकता है।

यह कैंसर 60 साल की आयु से अधिक पुरुषो में सबसे अधिक पाया जाता है। हालांकि युवा भी इसकी चपेट में आ सकते हैं। यह उन पुरूषो में सबसे अधिक है जोः

  • उनके परिवार के कई करीबी सदस्य (पुरुष या महिला), जिन्हे स्तन कैंसर हो, या
  • एक करीबी संबंधी जिसके दोनो स्तनो में स्तन कैंसर का निदान किया गया हो, या
  • 40 वर्ष से कम आयु के संबंधी का स्तन कैंसर के साथ का निदान हुआ हो।

स्तन कैंसर के उपचार या चिकित्सा

महिलाओ में कैसर का उपचार कैंसर के स्टेज या स्थिति पर निर्भर करता है और पूर्णतः मरीज़ की शारीरिक स्थिति पर निर्भर करता है।

अधिकांश पुरुषो में स्तन कैंसर का निदान शीघ्र सर्जरी करने के द्वारा होता है। एक संशोधित विलक्षण मस्तेक्टोमी  स्तन (स्तन, छाती की मांसपेशियों को ऊपर के अस्तर, और सहायक लिम्फ नोड्स के भाग को हटाने) पुरूष स्तन कैसर में सबसे आम सर्जिकल उपचार है। कभी कभी सीने की मांसपेशियां के भाग को भी हटा दिया जाता है। सर्जरी के बाद, अक्सर सहायक थेरेपी निर्धारित की जाती हैं। विशेष रूप से अगर कैंसर लिम्फ नोड्स में फैल जाने पर, इन चिकित्सा को किया जाता है (नोड पॉजिटिव कैंसर)। सहायक थेरेपी में रसायन चिकित्सा(कीमोथेरेपी), विकिरण चिकित्सा(रेडिएशन थेरेपी),लक्ष्य चिकित्सा(टारगेट थेरेपी) और हार्मोन चिकित्सा शामिल हैं। मेतास्ताटिक कैंसर के उपचार के मामले में, रसायन चिकित्सा(कीमोथेरेपी), हार्मोन चिकित्सा या दोनों के संयोजन की, आम तौर पर की सिफारिश की जाती है।

स्तन कैंसर के संकेतो को जाने या अन्यथा……

दुखद बात यह है कि आमतौर पर पुरुष इस समस्या के प्रति जागरूक नही होते क्योंकि उनकी यह धारणा है कि स्तन कैंसर केवल महिलाओं को ही होता है “चूंकि यह एक दुर्लभ स्थिति है, लोगों को परिणाम के बारे में बाद में पता चलता है। एक बड़ा निरीक्षण किया जाना चाहिए और पुरुषों को भी निश्चित रूप से स्थिति से अवगत कराया जाना चाहिए।”

परिस्थिति के साथ सामना करना

स्तन कैंसर के उपचार की कोशिश की जा रही है पुरूष के लिए चिंताजनक स्थिति है।  सदमा, अविश्वास, या गुस्से जैसी कई तरह के भावो का अनुभव कर सकते है। यह भाव आना बहुत ही सामान्य हैं, हालांकि हर किसी के अलग तरह से और उस स्थिति से सामना करने के अपने तरीके हैं।

स्तन कैंसर के लक्षण

लक्षणो में निप्पलो के नीचे स्थित समूह का ठोस होना और निप्पल के आस-पास की त्वचा के रंग में परिवर्तन के साथ, सिकुङन, लालिमा या स्केलिंग, निप्पलो के रिट्रेक्शन और फोङा होना शामिल है। कैंसर के स्टेज या स्थिति और रोगी के स्वास्थ्य पर इसका उपचार निर्भर करता है। अन्य लक्षण हैं:

  • निप्पलो से स्राव
  • स्तन, निप्पल या छाती पर या भित्ति में गांठ, मोटा होना या सूजन,
  • निपल के उलटाव या व्युत्क्रम (निप्पल में अंदरूनी बदलाव होना)
  • निप्पलो या स्तन की त्वचा का लाल हो जाना या बहुत शुष्क और पपङीला होना
  • त्वचा में गड्डे पङना या सिकुङना जब एक गांठ पायी जाती है, ज्यादातर समय इस एक स्थिति के होने को ज्ञ्नेकोमास्टिया कहा जाता है हालांकि, सभी गांठें और असामान्यताएं को एक चिकित्सक द्वारा जांच की आवश्यकता है। निपलो से स्राव और गांठ, एक मरीज़ के द्वारा निदान से पहले पता लगाया जाने वाला सबसे आम लक्षण है।

यहाँ कुछ सुझाव है जिनकी मदद से आप बेहतर महसूस कर सकते है

  • आप बिमारी और अपनी परिस्थिति के बारे में एवं इसके उपचार के बारे में पता करे।
  • अपने चिकित्सक से या किसी ऐसे व्यक्ति से जिसके साथ अपने सभी प्रश्नो और विचारो को बताने में सुविधाजनक महसूस हो, बातचीत करें।
  • स्वयं का ख्याल रखे। आपके इलाज के दौरान आपको अपने शेड्यूल के प्रति सावधान रहने की आवश्यकता है। अपने आप को आराम देने का समय दे और सहायता के लिए पूछने पर डरे नही। अपने दोस्तो और अपने परिवार से मदद लेना चाहते है, लेकिन वे शायद नही जाते कि उन्हे क्या करना चाहिए। आप अपनी आवश्यकताओ के बारे स्वयं अच्छी तरह जाने।
  • आपको लगता है कि इस मुश्किल परिस्थिति का सामना करने के लिए आप अकेले है। याद रखें कि वहाँ लोग हैं, जो आपकी सहायता कर सकते हैं, तो मदद के लिए पूछने से डर नहीं।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *